ICT Labs आईसीटी प्रयोगशाला Print प्रिंट

Training & Capacity Building Projects

Education provides the critical foundation for a better future.

EdCIL is actively involved in capacity building, providing necessary training and conducting development programs to imbibe the necessary skills required to operate at national and international level.

EdCIL assists in the capacity building of educational institutions in India and abroad through procurement for educational aids ranging from school kits to hi-tech laboratory equipment.

Hardware and software

Each school would be provided with 10 PCs or 10 nodes connected through a server. Accessories like printers, projection system, etc will also be provided. Keyboards would be customized for use in the regional languages.

Connectivity

The first priority would be to have a broadband internet connection of at least 2 MBPS bandwidth in each school. Wherever that is not possible, connection of lower bandwidth would be provided with plan to upgrade in future. Wireless links would also be explored.

Power Supply

Wherever the power supply is unreliable, it is proposed to provide assistance for purchase of a generator, as a back up only and also its recurring cost, subject to a maximum of Rs.1000 per month, in addition to Rs 1000 per month for the electricity charges. In areas where there is no power supply, solar generated power should be made use of.

Computer Room/Lab

The computers would be installed in one of the safe rooms in the school. If such rooms are not available, the need can be met from the scheme Rashtriya Madhyamik Shiksha Abhiyan (RMSA) in case of Government schools.

Providing Digital Literacy

Setting up Computer labs

  • Installation of Hardware
  • Site Preparation including Lab Furniture, Networking and Electrification/ Earthing
  • Setting up of UPS as power back up solution
  • Enabling digital literacy through a computer education programme

 

प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण से संबंधित परियोजनाएं

शिक्षा एक बेहतर भविष्य के लिए महत्वपूर्ण आधार प्रदान करती है।

राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संचालित करने के लिए आवश्यक कौशल प्राप्त करने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करते हुए और विकास कार्यक्रम आयोजित करते हुए, एडसिल क्षमता निर्माण में सक्रिय रूप से संलग्न है।

स्कूल किटों से लेकर उच्च तकनीक प्रयोगशाला उपकरणों तक शैक्षिक सहायक सामग्रियों की खरीद के माध्यम से एडसिल भारत में और विदेशों में शैक्षणिक संस्थानों की क्षमता निर्माण में मदद करता है।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेर

प्रत्येक स्कूल को 10 पीसी या 10 नोड्स उपलब्ध कराया जाना चाहिए, जिसे एक सर्वर के माध्यम से जुड़ा होना चाहिए। सहायक सामाग्रियां जैसे प्रिंटर, प्रोजेक्शन सिस्टम, आदि जैसे भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए। क्षेत्रीय भाषाओं में उपयोग के लिए कीबोर्ड को अनुकूलित किया जाना चाहिए।

कनेक्टिविटी

पहली प्राथमिकता प्रत्येक विद्यालय में कम से कम 2 एमबीपीएस बैंडविड्थ का ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध कराना है। जहां ऐसा करना संभव नहीं है, वहाँ भविष्य में अपग्रेड करने की योजना के साथ निम्न क्षमता के बैंडविड्थ का कनेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा। वायरलेस लिंक के उपयोग का भी पता लगाया जाएगा।

विद्युत आपूर्ति

जहाँ कहीं भी विद्युत आपूर्ति अविश्वसनीय है, वहां एक जनरेटर की खरीद के लिए सहायता प्रदान करने का प्रस्ताव है, और उसका उपयोग केवल एक बैक अप के रूप में किया जाना चाहिए और इसकी आवर्ती लागत के लिए अधिकतम रुपये 1000 प्रति माह, के साथ-साथ रुपये 1000 प्रति माह प्रति माह के अतिरिक्त विद्युत शुल्क का भी भुगतान किया जाएगा। उन क्षेत्रों में जहां बिजली की आपूर्ति नहीं है, सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करना चाहिए।

कंप्यूटर कक्ष / प्रयोगशाला

स्कूल के सबसे सुरक्षित कमरे में कंप्यूटर स्थापित किया जाएगा। यदि ऐसा कमरा उपलब्ध नहीं हैं, तो सरकारी स्कूलों के मामले में राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (आरएमएसए) की योजना से इस आवश्यकता को पूरा किया जा सकता है।

डिजिटल साक्षरता प्रदान करना

कंप्यूटर प्रयोगशाला की स्थापना करना

  • हार्डवेयर की स्थापना
  • साइट तैयार करना, जिसमें लैब फर्नीचर, नेटवर्किंग और विद्युतीकरण / अर्थिंग शामिल है
  • पॉवर के बैक अप सोल्यूशन के रूप में यूपीएस की स्थापना करना
  • कंप्यूटर शिक्षा कार्यक्रम के माध्यम से डिजिटल साक्षरता को सक्षम करना

 

Latest News : नवीनतम समाचार: